‘डीएवाई-एनआरएलएम’ : आजीविका में विविधता के जरिए घट रही है गरीबी

ग्रामीण विकास मंत्रालय

‘डीएवाई-एनआरएलएम’ : आजीविका में विविधता के जरिए घट रही है गरीबी 

प्रविष्टि तिथि: 24 JAN 2019 5:53PM by PIB Delhi
 

हाल के वर्षों में भारत में गरीबी घटने की गति तेज हो गई है। वैश्विक बहुआयामी गरीबी सूचकांक 2018 के साथ-साथ ब्रूकिंग्‍स इंस्‍टीट्यूशन द्वारा प्रकाशित एक नोट से यह तथ्‍य उभर कर सामने आया है।

दीनदयाल अंत्‍योदय योजना – राष्‍ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (डीएवाई – एनआरएलएम) का लक्ष्‍य गरीबों के टिकाऊ सामुदायिक संस्‍थानों के निर्माण के जरिए ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबी कम करना है। इसके तहत लगभग 9 करोड़ परिवारों को स्‍वयं सहायता समूहों (एसएचजी) में संगठित करना है और उन्‍हें टिकाऊ आजीविका के अवसरों से जोड़ना है। इसके लिए इनके कौशल को बढ़ाया जाएगा और इसके साथ ही वित्‍त के औपचारिक स्रोतोंपात्रता और सार्वजनिक एवं निजी दोनों ही क्षेत्रों की सेवाओं तक उनकी पहुंच सुनिश्चित की जाएगी। यह परिकल्‍पना की गई है कि ग्रामीण क्षेत्रों की गरीब महिलाओं के गहन एवं सतत क्षमता निर्माण से उनके सामाजिकआर्थिक एवं राजनीतिक सशक्तिकरण के साथ-साथ विकास भी सुनिश्चित होगा।

अप्रैल 2014-नवम्‍बर 2018 के दौरान प्रगति

महत्‍वपूर्ण क्षेत्रों में इस मिशन की उपलब्धियों का उल्‍लेख नीचे किया गया है :

ए. मिशन फुटप्रिंट : इस अवधि के दौरान 2411 अतिरिक्‍त ब्‍लॉकों को गहन’ रणनीति के दायरे में लाया गया है। इस मिशन को संचयी रूप से 29 राज्‍यों और 5 केन्‍द्र शासित प्रदेशों के 612 जिलों में फैले 5,123 ब्‍लॉकों में कार्यान्वित किया जा रहा है।

बी. सामुदायिक संस्‍थानों का निर्माण :  अप्रैल 2014 और नवम्‍बर 2018 के बीच 3 करोड़ से भी अधिक ग्रामीण निर्धन महिलाओं को देश भर में 26.9 लाख स्‍वयं सहायता समूहों (एसएचजी) में संगठित किया गया है। कुल मिलाकर 5.63 करोड़ से भी अधिक महिलाओं को 49.7 लाख से ज्‍यादा एसएचजी में संगठित किया गया है। इसके अलावा, एसएचजी को 2.73 लाख से भी अधिक ग्राम स्‍तरीय महासंघों और लगभग 25,093 क्‍लस्‍टर स्‍तरीय महासंघों के रूप में संगठित किया गया है।

http://pibphoto.nic.in/documents/rlink/2019/jan/i201912401.jpgइसके अलावाइन सामुदायिक संस्‍थानों को पूंजीगत सहायता के रूप में 5,919.71 करोड़ रुपये से भी अधिक की राशि मुहैया कराई गई हैजिनमें से लगभग 85 प्रतिशत रकम (5030.7 करोड़ रुपये) उपर्युक्‍त अवधि के दौरान उपलब्‍ध कराई गई है।

सी. वित्‍तीय समावेश : एसएचजी की बकाया ऋण राशि मार्च 2014 के 32,565 करोड़ रुपये से बढ़कर अक्‍टूबर 2018 में 76,591 करोड़ रुपये के स्‍तर पर पहुंच गई है। पिछले पांच वर्षों के दौरान एसएचजी द्वारा कुल मिलाकर 1.96 लाख करोड़ रुपये के बैंक ऋण से लाभ उठाया गया है। चालू वर्ष में फंसे कर्जों (एनपीए) के घटकर 2.64 प्रतिशत हो जाने के साथ ही पोर्टफोलियो की गुणवत्‍ता में भी उल्‍लेखनीय सुधार हुआ है। यह एसएचजी द्वारा समय पर ऋणों के भुगतान को बढ़ावा देने के लिए राज्‍यों द्वारा सतत रूप से किये जा रहे प्रयासों का नतीजा है।

http://pibphoto.nic.in/documents/rlink/2019/jan/i201912402.jpg

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image004FG7F.png

डी. दूर-दराज के क्षेत्रों में वित्‍तीय सेवाएं : इस अवधि के दौरान वित्‍तीय सेवाएं मुहैया कराने के वैकल्पिक मॉडलों को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाए गए हैं। लगभग 3,050 एसएचजी सदस्‍यों को बैंकिंग कॉरस्‍पोंडेंट एजेंटों (बीसीए) के रूप में तैनात किया गया हैताकि अंतिम छोर तक वित्‍तीय सेवाएं मुहैया कराई जा सकें। इनमें जमाऋणधन प्रेषणवृद्धावस्‍थापेंशन एवं छात्रवृत्तियों का वितरणमनरेगा से संबंधित पारिश्रमिक का भुगतान एवं बीमा और पेंशन योजनाओं के तहत नामांकन शामिल हैं। नवम्‍बर 2018 तक 185 करोड़ रुपये के 16 लाख से भी अधिक लेन-देन पूरे किये गये हैं।

ई. महिला किसान सशक्तिकरण परियोजना एवं मूल्‍य श्रृंखला से जुड़ी पहल : महिला किसानों की आमदनी बढ़ाने और कच्‍चे माल से संबंधित लागतों एवं जोखिमों में कमी करने वाले कृषि-पारिस्थितिकी तौर-तरीकों को बढ़ावा देने के लिए इस मिशन के तहत महिला किसान सशक्तिकरण परियोजना (एमकेएसपी) को कार्यान्वित किया जा रहा है। अप्रैल 2014 से लेकर नवम्‍बर 2018 तक की अवधि के दौरान लगभग 3 लाख और महिला किसानों को एमकेएसपी के दायरे में लाया गया है। इसके साथ ही इस परियोजना के तहत अब तक 35.92 लाख महिला किसानों को लाया जा चुका है।

वित्‍त वर्ष 2015-16 से लेकर अब तक डीएवाई-एनआरएलएम ने मूल्‍य श्रृंखला (वैल्‍यू चेन) से संबंधित उपलब्धियां हासिल करने की दिशा में उल्‍लेखनीय प्रयास किये हैंताकि बाजार संपर्कों (लिंकेज) का विस्‍तार किया जा सके। इसका मुख्‍य उद्देश्‍य संपूर्ण बिजनेस मॉडल विकसित करना हैजिससे कि प्राथमिक उत्‍पादकों को उत्‍पादक संगठनों के सृजन से लेकर विपणन संबंधी संपर्कों के निर्माण तक के समस्‍त सॉल्‍यूशन सुलभ कराए जा सकें।          

***

 

हिन्‍दी इकाई, पसूका, नई दिल्‍ली

 



(रिलीज़ आईडी: 1561290) आगंतुक पटल : 158 


 
 
इस विज्ञप्ति को इन भाषाओं में पढ़ें: English



 
 
 
back to Top
Footer Menu