‘गरीब कल्याण रोजगार अभियान’ आजीविका के अवसर देकर ग्रामीणों को बना रहा है सशक्त - लाभार्थियों की सफलता की गाथाएं

ग्रामीण विकास मंत्रालय

‘गरीब कल्याण रोजगार अभियान’ आजीविका के अवसर देकर ग्रामीणों को बना रहा है सशक्त - लाभार्थियों की सफलता की गाथाएं

प्रविष्टि तिथि: 01 SEP 2020 3:17PM by PIB Delhi
 

गरीब कल्याण रोजगार अभियान (जीकेआरए) का शुभारंभ कोविड -19 के प्रकोप के मद्देनजर किया गया है, ताकि इसके कारण विवश होकर अपने-अपने गांव लौट चुके प्रवासी श्रमिकों के साथ-साथ इसी तरह से प्रभावित ग्रामीण क्षेत्रों के नागरिकों के लिए भी रोजगार और आजीविका के अवसरों को बढ़ावा दिया जा सके। इस अभियान को एक मिशन के रूप में चलाया जा रहा है। यह अभियान दरअसल उन प्रवासी श्रमिकों को रोजगार प्रदान करने के लिए चलाया जा रहा है जो 6 राज्यों यथा बिहारझारखंडमध्य प्रदेशओडिशाराजस्थान और उत्तर प्रदेश के अपने-अपने मूल गांवों में वापस लौट आए हैं। यह अभियान अब इन राज्यों के 116 जिलों में ग्रामीणों को आजीविका के अवसर देकर उन्‍हें सशक्त बना रहा है।

अब तक इस अभियान की सफलता को 12 मंत्रालयों/विभागों और राज्य सरकारों के सामंजस्‍यपूर्ण प्रयासों के रूप में देखा जा सकता हैजो प्रवासी श्रमिकों और ग्रामीण समुदायों को व्‍यापक लाभ प्रदान कर रहे हैं। लाभार्थियों की सफलता की दो गाथाएं यहां दी गई हैंजिनके घरों का निर्माण गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत किया गया है।

 

  1. राज्य: ओडिशा

लाभार्थी का विवरण

नाम: शशि बारिक

 

http://awaassoft.nic.in/mobile/mphotop/OR/OR4160180--2-16-6-2020%20045124.jpeghttp://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001KYST.png

       http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image004VI4L.png                        http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image0034VZ2.png   

 

  1. राज्य: झारखंड

लाभार्थी का विवरण

नाम: दुलारी मसोमात

गांव-हुरूदागग्राम पंचायत: बेसप्रखण्ड: कटकमदागजिला: हजारीबाग

श्रीमती दुलारी मसोमात के पति की मृत्यु वर्ष 2008 में ही हो गई थी। इनकी तीन बेटियां हैं। पति की मृत्यु के पश्चात परिवार की सारी जिम्मेदारी इन पर ही आ गई। वह अपना जीवन यापन तथा अपने बच्चों की परवरिश दिहाड़ी मजदूर के रूप में काम करते हुए कर रही हैं। इनके आवास की स्थिति अत्यंत जर्जर थी। वित्त वर्ष 2019-20 में ‘प्रधानमंत्री आवास योजना- ग्रामीण’ के तहत उन्‍हें आवास निर्माण की स्वीकृति दी गई। गरीब कल्याण रोजगार अभियान’ के तहत उन्‍होंने अपने आवास में खुद मजदूरी करके अपना आवास निर्माण कार्य पूर्ण किया और वह काफी खुश हैं। उन्होंने सरकार का धन्यवाद करते हुए कहा कि सरकार की सहायता से उन्‍होंने एक शौचालय का निर्माण भी किया है और उन्‍हें रसोई गैस कनेक्शन भी मिला है। अब मैं अपने परिवार का जीवन यापन बेहतर ढंग से कर रही हूं।

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image005BNO1.pnghttp://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image006AAKG.jpg

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image004VI4L.png             http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image0034VZ2.png

 

 

***

एमजी/एएम/आरआरएस- 6833                                                                                       

                

 



(रिलीज़ आईडी: 1650399) आगंतुक पटल : 77



 
 
इस विज्ञप्ति को इन भाषाओं में पढ़ें: Punjabi English Urdu Manipuri Bengali Assamese Odia Tamil Telugu



 
 
 
 
 
back to Top
Footer Menu