गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत 6 सप्ताह में 17 करोड़ श्रमदिन रोजगार मुहैया कराया गया और प्रवासी श्रमिकों को 13,240 भुगतान किया गया

ग्रामीण विकास मंत्रालय

 

गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत 6 सप्ताह में 17 करोड़ श्रमदिन रोजगार मुहैया कराया गया और प्रवासी श्रमिकों को 13,240 भुगतान किया गया

गरीब कल्याण रोजगार अभियान ने 6 राज्य के 116 जिलों में प्रवासी श्रमिकों को आजीविका के अवसर मुहैया कराये

प्रविष्टि तिथि: 05 AUG 2020 9:14PM by PIB Delhi

 

कोविड-19 संकट के मद्देनजर गांव लौटे श्रमिकों और इसी तरह से ग्रामीण इलाकों में प्रभावित नागरिकों को रोजगार और आजीविका के अवसर मुहैया कराने के वास्ते गरीब कल्याण रोज़गार अभियान योजना (जीकेआरए) की शुरुआत की गई थी। गरीब कल्याण रोज़गार अभियान योजना अब छह राज्यों के 116 जिलों में ग्रामीणों को आजीविका के अवसरों के साथ सशक्त बना रहा है। गरीब कल्याण रोज़गार अभियान के तहत उन राज्यों जैसे बिहारझारखंडमध्य प्रदेशओडिशाराजस्थान और उत्तर प्रदेश के अपने मूल गांवों में लौट चुके प्रवासी श्रमिकों को रोजगार प्रदान करने के लिए मिशन मोड पर काम किया जा रहा है।

गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत 6 सप्ताह में 17 करोड़ श्रमदिन रोजगार मुहैया कराया गया और प्रवासी श्रमिकों को 13,240 भुगतान किया गया है। गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत बड़े पैमाने पर ढांचों को विकसित किया गया है। इसमें अब तक 62,532 जल संरक्षण ढांचा1.74 लाख ग्रामीण इलाकों में घर14,872 मवेशियों के लिए शेड8,963 तालाब2,222 सामुदायिक स्वच्छता परिसर5,909 काम जिला खनिज निधि564 ग्राम पंचायतों में इंटरनेट कनेक्टिविटी प्रदान की गई है। वहीं 16,124 उम्मीदवारों को इस अभियान के दौरान कृषि विज्ञान केंद्रों (केवीकेके माध्यम से कौशल प्रशिक्षण प्रदान किया गया है।

गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत अब तक 12 मंत्रालयों/ विभागों और राज्य सरकारों के प्रयासों के कारण सफलता मिली है। यह प्रवासी श्रमिकों और ग्रामीण समुदायों को बड़े पैमाने पर फायदा पहुंचा रहा है। यह उन प्रवासी श्रमिकों के लिए दीर्घकालिक फायदेमंद साबित होने वाला है जिन्होंने  गांव लौटना का रास्ता चुना है

****

एमजी/एएम/वीएस

(रिलीज़ आईडी: 1643740) आगंतुक पटल : 43

  

इस विज्ञप्ति को इन भाषाओं में पढ़ें: English Urdu Marathi Manipuri Punjabi Tam

  

back to Top
Footer Menu